Shri_Mahakaleshwar_Temple_Ujjain

उज्जैन महाकाल के दर्शन के लिए कैसे पंहुचा जा सकता है

इस प्रसिद्ध तीर्थ में बड़ी संख्या में भक्त हिस्सा लेने, यात्रा करने और प्रार्थना करने के लिए आते हैं।
महाकालेश्वर ज्योतिर्लिंग भगवान शिव के प्रसिद्ध बारह ज्योतिर्लिग तीर्थों में से एक है और अत्यंत प्रसिद्ध है ।
भर्तृहरि गुफाएं भी उज्जैन के प्रमुख पर्यटक आकर्षणों में से एक हैं।
उज्जैन महाकाल की नगरी में महर्षि सांदीपनि का प्राचीन आश्रम भी है, जिसे बड़े भाई बलराम और उनके मित्र सुदामा के साथ भगवान कृष्ण की शिक्षा का स्थान माना जाता है।
इसका भारतीय साम्राज्य के इतिहास से भी गहरा संबंध है क्योंकि इस पर विश्व प्रसिद्ध राजा चंद्रगुप्त द्वितीय का शासन था।

उज्जैन कैसे पंहुचा जा सकता है ?

उज्जैन तक पहुंचने के लिए आज के समय में काफी आसान है क्योंकि यह भारत के कई प्रमुख शहरों के साथ अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है |

रेल और वायुमार्ग जैसी आधुनिक परिवहन सुविधाओं की मदद से यहाँ आसानी से पंहुचा जा सकता है ।

निकटतम रेलवे स्टेशन : उज्जैन रेलवे स्टेशन उज्जैन शहर को पड़ोसी शहरों से जोड़ता है।

निकटतम हवाई अड्डा : इंदौर में देवी अहिल्याबाई होल्कर हवाई अड्डा, उज्जैन शहर का निकटतम हवाई अड्डा है। यात्री आसानी से बसों द्वारा हवाई अड्डे तक जा सकते हैं क्योंकि यह उज्जैन के मुख्य शहर से केवल 55 किमी दूर है।

उज्जैन में महाकाल मंदिर के इलावा और कौन से आकर्षण हैं ?

उज्जैन में विभिन्न आकर्षण हैं:

  • भर्तृहरि गुफाएं,
  • महाकालेश्वर मंदिर,
  • गोमती कुंड,
  • पीर मत्स्येन्द्रनाथ,
  • सांदीपनि आश्रम,
  • पाताल भैरव मंदिर,
  • कालीदेह पैलेस,
  • राम जनार्दन मंदिर,
  • चौबीस खंबा मंदिर,
  • गोपाल मंदिर,
  • काल भैरव मंदिर,
  • बडे गणेशजी मंदिर,
  • राम मंदिर,
  • राम मंदिर घाट,
  • चिंतामण गणेश मंदिर,
  • हरसिद्धि मंदिर,
  • विक्रम कीर्ति मंदिर,
  • सिद्धावत,
  • अंकपता,
  • विक्रांत भैरव तीर्थ,
  • गोनिकोपल,
  • नागरकोट की रानी,
  • ​​गदालिका मंदिर,
  • भैरोगढ़,
  • मंगलनाथ मंदिर,
  • देवास,
  • जंतर मंतर शाला वेधशाला आदि।

उज्जैन महाकाल जाने का सबसे अच्छा समय

उज्जैन जाने का सबसे अच्छा समय सितम्बर से मार्च के बीच में है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *